Covid-19: भारत में मिला कोरोना का बीए,5 वैरिएंट, जाने क्यों है चिंता बढ़ाने की बात

Covid-19: भारत में मिला कोरोना का बीए,5 वैरिएंट, जाने क्यों है चिंता बढ़ाने की बात

देश में कोरोना(Corona) के बीए.4 वैरिएंट के बाद अब बीए.5 वैरिएंट मिलने की खबर सामने आई है। स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जीनोम सीक्वेंसिंग के लिए चिह्नित लैबों के संगठन INSACOG ने इसकी पुष्टि की। कंसोर्शियम ने बयान जारी कर कहा कि तमिलनाडु(TamilNadu) की एक 19 साल की लड़की को कोरोना(Corona) के बीए.4 वैरिएंट से संक्रमित पाया गया है। मरीज में हल्के लक्षण देखे गए और उसे कोरोना वैक्सीन(CoronaVaccine) की दोनों डोज लग चुकी हैं। इससे पहले दक्षिण अफ्रीका से लौटने वाले हैदराबाद के एक व्यक्ति को भी इसी वैरिएंट(Varient) से संक्रमित पाया गया था।

इन्साकॉग का कहना है कि अब कोरोना के बीए.5 वैरिएंट(Varient) का भी एक मामला सामने आया है। यह केस तेलंगाना से आया है। बीए.5 से संक्रमित मरीज में भी हल्के लक्षण पाए गए हैं और उसे भी टीके की दोनों डोज लग चुकी हैं। मरीज का यात्रा का पिछला रिकॉर्ड नहीं है। कंसोर्शियम ने कहा कि मरीजों के मिलने के बाद एहतियात के तौर पर कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग का काम शुरू हो गया है।

पिछले स्वरूपों से कितना अलग?

यूरोप के सेंटर फॉर डिजीज एंड कंट्रोल एंड प्रिवेंशन ने कोरोना(Corona) के इन दो सब-वैरिएंट्स- बीए.4 और बीए.5 को वैरिएंट्स ऑफ कंसर्न करार दिया गया है। दरअसल, यह दोनों वैरिएंट्स(Varient) असल में ओमिक्रॉन वैरिएंट का ही विकसित रूप हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन भी इन दोनों सब-वैरिएंट्स को लेकर अलर्ट जारी किया गया है।

इन दोनों सब-वैरिएंट्स की पहचान पहली बार दक्षिण अफ्रीका में इसी साल जनवरी में की गई थी। तब भारत कोरोना की तीसरी लहर का सामना कर रहा था। अब जब इस सब-वैरिएंट के भारत में पहले केस मिले हैं, तब दक्षिण अफ्रीका, यूरोप और अमेरिका में यह वैरिएंट तेजी से फैल रहा है। दक्षिण अफ्रीका में तो यह स्वरूप कोरोना(Corona) के 55 फीसदी केसों के लिए जिम्मेदार है।

कितने खतरनाक हैं ये दोनों सब-वैरिएंट्स?

कोरोना(Corona) के ये दोनों सब-वैरिएंट्स अब तक दुनियाभर के वैज्ञानिकों की चिंता बढ़ा चुके हैं। इन्हीं दोनों स्वरूपों की वजह से दक्षिण अफ्रीका में कोरोना की पांचवीं लहर आई थी। वैज्ञानिकों की सबसे बड़ी चिंता इन दोनों सब-वैरिएंट्स के दो म्यूटेशंस हैं। इन बदलावों में वायरस(Virus) के स्पाइक का एक बदलाव भी शामिल है, जो इंसानों की कोशिकाओं से जुड़कर शरीर में घुसने में स्वरूप की मदद करता है।

स्टडीज के मुताबिक, बीए.4 और बीए.5 में मिलने वाला एफ486वी म्यूटेशन ओमिक्रॉन के सभी स्वरूपों में सबसे मजबूत वैरिएंट है। अपने इन्हीं बदलावों के चलते यह वायरस एंटीबॉडीज से बच निकलने में भी काफी कारगर साबित होता है।

एक और एल452आर म्यूटेशन, जो कि पहले डेल्टा वैरिएंट(Varient) में ही पाया गया था, उसे मानवीय कोशिकाओं में प्रवेश करने की अपनी क्षमताओं के लिए जाना जाता है। चीन की एक लैब स्टडी के मुताबिक, इस म्यूटेशन से चूहों के फेफड़े ज्यादा जल्दी संक्रमित हो जाते हैं। भारत में ओमिक्रॉन वैरिएंट(Varient) ने ज्यादातर लोगों की ऊपरी श्वास नली को नुकसान पहुंचाया, लेकिन फेफड़ों तक पहुंचने में नाकाम रहा, जिसकी वजह से तीसरी लहर उतनी खतरनाक साबित नहीं हुई।

अब तक कितने खतरनाक दिखे हैं दोनों सब-वैरिएंट्स?
फिलहाल एक सुकून वाली बात यही है कि बीए.4 और बीए.5 को लेकर दक्षिण अफ्रीका से ऐसा कोई भी डेटा सामने नहीं आया, जिसमें कहा गया हो कि इन दोनों सब-वैरिएंट्स की वजह से अस्पताल में भर्ती होने या मौतों की दर बढ़ी हो। यहां कोरोना की लहर पहले ही अपने उच्च स्तर को छू चुकी है और मौतों और गंभीर बीमारों की संख्या भी कम ही रही है। दक्षिण अफ्रीका के सेंटर फॉर एपिडेमिक रिस्पॉन्स के वैज्ञानिक टूलियो डी ओलिविएरा के मुताबिक, जिन देशों ने बीए.2 सबवैरिएंट की लहर देखी है, उनमें बीए.4 और बीए.5 का कोई खास असर नहीं देखा गया और केसों के बढ़ने की रफ्तार काफी धीमी पाई गई।

Amit Singh

Amit Singh

अमित सिंह, सच भारत में राजनीति और मनोरंजन सेक्शन लीड कर रहे हैं। उन्हें पत्रकारिता में करीब 5 साल का अनुभव है। इन्हें राजनीति और मनोरंजन क्षेत्र कवर करने का अच्छा अनुभव रहा है।थियेटर एक्टर रह चुके अमित ने टीवी से लेकर अखबार और देश की विभिन्न विख्यात वेबसाइट्स के साथ काम किया है।इन्होंने राष्ट्रीय स्तर की दर्जनों शख्सियतों का वीडियो और प्रिंट इंटरव्यू भी लिया है।अमित सिंह ने अपनी स्कूली शिक्षा लखनऊ से प्राप्त करने के बाद जामिया मिलिया इस्लामिया, नई दिल्ली से टीवी पत्रकारिता की पढ़ाई पूरी की है।

Related articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.