SHOCKING! Tokyo Olympics से जुड़ा चौंकाने वाला खुलासा, चोट के साथ खेल रहे थे Bajrang Punia

SHOCKING! Tokyo Olympics से जुड़ा चौंकाने वाला खुलासा, चोट के साथ खेल रहे थे Bajrang Punia

भारतीय पहलवान बजरंग पूनिया (Bajrang Punia) ने टोक्यो ओलिंपिक (Tokyo Olympic) में ब्रॉन्ज मेडल (Bajrang Punia Bronze Medal) जीता। 65 किलोग्राम फ्री-स्टाइल कुश्ती में वह सेमीफाइनल मैच हार गए थे। इसके बाद उन्होंने ब्रॉन्ज मेडल मैच में कजाकिस्तान के पहलवान डाउलेट नियाजबेकोव को 8-0 से हराया।

बजरंग की दाईं टांग में थी चोट (Bajrang Puniya Knee Injury)

कुश्ती के दौरान विपक्षी पहलवान लगातार बजरंग की दाईं टांग (Bajrang Knee Injury) पकड़ने की कोशिश कर रहे थे। खबर थी कि बजरंग की उस टांग में चोट है और सामने वाला पहलवान इसी का फायदा उठाने की कोशिश कर रहा है। टीवी पर कॉमेंट्री पर भी बार-बार इसी बात का जिक्र हो रहा था।

बजरंग पुनिया इंटरव्यू (Bajrang Puniya Interview)

बजरंग (Bajrang Punia) ने अब इस खबर की पुष्टि की है। भारत का यह महाबली तोक्यो में घुटने में चोट के साथ ही खेला। उन्होंने नवभारत टाइम्स को बताया, ‘मैं चोट के साथ खेला। घुटने में चोट थी। बहुत समस्या थी।’

घरवाले भी थे चोट से अनजान

बजरंग मेडल जीतने के लिए इतने दृढ़ संकल्प थे कि उन्होंने अपनी चोट के बारे में किसी को नहीं बताया। यहां तक कि अपने माता-पिता को भी नहीं। उन्होंने कहा, ‘मेरी चोट के बारे में किसी को नहीं पता था। मां-पिताजी को भी नहीं। लेकिन मेरे मैच के समय उन्होंने मेरे घुटने पर लगी पट्टी को देखकर अनुमान लगा लिया। जब मेरी कुश्ती चल रही थी तो मेरी मां घुटने को ही देख रही थी। उनकी नजर वहीं थी।’

डॉक्टर ने खेलने से किया था मना

बजरंग ने कहा, ‘डॉक्टर ने खेलने के लिए मना किया था। मैं धन्यवाद देना चाहूंगा जापान में भारती दूतावास को। उन्होंने वहां एक छोटे से गांव में मेरे लिए वे सारी सुविधाएं मुहैया करवाईं जो वैसे एक मिलना मुश्किल होता।’

भारतीय दूतावास ने की मदद

बजरंग का घुटना ठीक नहीं था। उन्हें डॉक्टर्स ने लड़ने के लिए मना किया था। लेकिन जापान में मौजूद भारतीय दूतावास ऐसे समय पर आगे आया। उन्होंने एक छोटे से गांव में सभी जरूरी सुविधाएं उपलब्ध करवाईं।

कांस्य से खुश नहीं बजरंग

भारतीय पहलवानों ने कुश्ती में दो पदक जीते। बजरंग के अलावा रवि दहिया ने भी टोक्यो में मेडल जीता। उन्होंने सिल्वर मेडल अपने नाम किया। हालांकि बजरंग को लगता है कि भारत कुश्ती में ज्यादा पदक जीत सकता था। उन्होंने कहा, ‘हमें उम्मीद थी कि तोक्यो में रेसलिंग में हम कम से कम चार पदक जीतेंगे। दीपक पूनिया आखिरी 10 सेकंड में हार गए। हम लोगों को बहुत दुख हुआ उसके लिए।’

Nitesh Sharma

Nitesh Sharma

नितेश शर्मा ''सच भारत'' में स्पोर्ट्स डेस्क को लीड करते हैं। दिल्ली के रहने वाले नितेश ने माखनलाल चतुर्वेदी कॉलेज से पत्रकारिता में एमए किया है। खेल की दुनिया में रूचि रखने वाले नितेश खेल पत्रकारिता में करीब चार साल का अनुभव रखते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *